Connect with us

Business

ट्रांसपोर्ट बिजनेस कैसे शुरु करें? – 5 तरीके | How to Start Transport Business in India

Published

on

ट्रांसपोर्ट बिजनेस कैसे शुरू करें?

Transport Business: पिछले कुछ सालों में बिजनेस और स्टार्टअप्स को भारत में बहुत ग्रोथ मिली है. ऐसे में अब हर कोई अपना खुद का बिजनेस या स्टार्टअप शुरु करना चाहते है. लेकीन बिना तैयारी और जानकारी के शुरु किया हुआ कोई भी काम सफल नहीं हो पाता है. इसलिए अगर आप भी खुद का कोई बिजनेस शुरु करना चाहते है तो आज हम आपको ऐसे बिजनेस आइडिया के बारे में जानकारी देने वाले है जिसे करके लाखों आदमी करोड़पति बने है.

जी हां आज हम बात करने वाले है ट्रांसपोर्ट बिजनेस की, जिसमें बस, ट्रेन, फ्लाइट, ट्रक यह सभी शामिल है. आजकल लोगों को कहीं जाना हो, किसी सामान को एक से दूसरी जगह पर भेजना हो तो उसमें ट्रांसपोर्टेशन की जरुरत पड़ती हैं. इसके अलावा घर शिफ्ट करना, कोई भारी भरकम सामान ढोना, दैनिक जीवन की जरूरी चीजें आयात-निर्यात करानी हो तो ट्रांसपोर्ट की आवश्यकता पड़ती ही है.

अगर आप ट्रांसपोर्ट बिजनेस शुरु करना चाहते हैं तो आज हम आपको इस Business Idea इसकी पूरी जानकारी देंगे की, ट्रांसपोर्ट बिजनेस क्या होता है? ट्रांसपोर्ट बिजनेस कैसे शुरु करें? ये कितने प्रकार के होते है और इस बिजनेस में कितनी लागत आएगी?

ट्रांसपोर्ट बिजनेस क्या होता है?

ट्रांसपोर्ट बिजनेस वह व्यापार है जो लोगों के दैनिक जीवन में काम आने वाली सामग्री, अन्नाज, कपडे़, निर्माण सामग्री या लोगों को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाने के लिए वाहनों की सेवाएं प्रदान करता है। इसमें बस, कार, ट्रक, रेल, विमान, जहाज जैसे परिवहन साधन शामिल हो सकते हैं।भारत की अर्थव्यवस्था के विकास में ट्रांसपोर्ट बिजनेस या लॉजिस्टिक बिजनेस एक बड़ा योगदान देता है. लगभग पांच करोड़ लोग प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रुप से इस इंडस्ट्री से रोजगार के लिए जुड़े हुए हैं.

ट्रांसपोर्ट बिजनेस के प्रकारों की बात करें तो सामान्यत: यह पांच तरह के होते हैं, जैसे रोड ट्रांसपोर्ट (Roadways), रेलवे (Railway), वाटर ट्रांसपोर्ट, वायु और पाइपलाइन ट्रांसपोर्टेशन आदी! लेकीन आज हम सिर्फ रोड ट्रांसपोर्ट बिजनेस के बारे में बात करने वाले है.

ट्रांसपोर्ट बिजनेस कैसे शुरु करें?

रोड ट्रांसपोर्ट बिजनेस शुरु करने के लिए, सबसे पहले इस बिजनेस की अच्छी तरह से तैयारी करनी चाहिए। वाहन और चालकों के चयन में सतर्कता बरतनी चाहिए, साथ ही जहां आप ये बिजनेस करना चाहते हो उस जगह और ग्राहकों का भी आपको अच्छे से अध्ययन करना होगा। इसके बाद, आपको स्थानीय और सरकारी नियमों का पालन करते हुए बिजनेस प्रारंभ करना होगा। ट्रांसपोर्ट बिजनेस शुरु करने के लिए निम्न चरण फॉलो करें..

मॉडल चुनना

रोड ट्रांसपोर्ट बिजनेस शुरु करने के लिए सबसे पहले आपको ट्रांसपोर्ट बिजनेस का सही मॉडल चुनना होगा. आप ट्रांसपोर्ट का बिजनेस बस सर्विस देकर करेंगे, लॉजिस्टिक सर्विस प्रोवाइडर बनेंगे, कार रेंट पर देने का काम करेंगे, कुरियर सर्विस देंगे या गुड्स करियर का काम करेंगे! इनमें से कोई एक सेगमेंट या मॉडल आपको तय करना होगा. कई ऐसे ट्रांसपोर्ट बिजनेस हैं जो नेशनल परमिट के साथ चलते हैं, जो पूरे देश में जा सकते हैं. वहीं कुछ सिर्फ अपने राज्य के अंदर ही ये काम कर सकते है.

बिजनेस मॉडल तय होने के बाद ही आप आगे की योजना बना पाएंगे और बिजनेस मोडल तय करने के बाद उससे जुड़ी दिक्कतों और जोखिमों पर भी आपको काम करना होगा. क्योंकि इन्हें आप जितने बेहतर तरीके से हैंडल कर पाएंगे आपका प्रॉफिट मार्जिन उतना ही बढ़ेगा. जैसे..

  • अगर आप ट्रक ट्रांसपोर्ट का बिजनेस शुरू करेंगे तो आपको उन्हें किराए पर डालने का सोर्स पता होना चाहिए.
  • गाड़ियों के बिगड़ने पर उन्हें बनाने का कैपिटल होना चाहिए.
  • अच्छे और कुशल ड्राइवर्स होने चाहिए.
  • डॉक्यूमेंट और पेपर्स को अपडेट रखना चाहिए ताकि कोई चालान ना कटे आदि.
ट्रांसपोर्ट बिजनेस रजिस्टर करना

ट्रांसपोर्ट बिजनेस को रजिस्टर करना जरुरी होता है, जिसे आप पार्टनरशिप फर्म, प्राइवेट लिमिटेड कंपनी, वन पर्सन कंपनी, स्मॉल स्केल इंडस्ट्री, एमएसएमई और लिमिटेड लायबिलिटी पार्टनरशिप फर्म (LLP) के तौर पर रजिस्टर करवा सकते हैं. अगर आपको इनके बारे में कोई भी जानकारी नहीं है, तो आप किसी वकील या लीगल एडवाइजर से भी मिल सकते हैं. इसके बाद आप RTO ऑफिस जाकर जरूरी लाइसेंस और परमिट के लिए अप्लाई कर सकते हैं.

बिजनेस कैपिटल जमा करना

कोई भी बिजनेस शुरु करने के लिए पैसों की आवश्यकता होती है, अगर आपकी जमा पूंजी आपके बिजनेस आईडिया के लिए कम पड़ गई है तो पैसों की जरूरत पूरा करने के लिए लोन लेना सबसे बेहतर ऑप्शन होता है. क्यों की ट्रांसपोर्ट का बिजनेस छोटे स्केल पर भी करने में कम से कम 20 से 25 लाख का खर्चा आएगा. गाड़ी खरीदने से लेकर ऑफिस बनाने, लाइसेंस, इंश्योरेंस, परमिट, स्टाफ सैलरी, गाडी़यों की किस्तें, सर्विसिंग और मरम्मत के लिए आपको कदम-कदम पर पैसों की जरूरत जरत पड़ेगी.

बिजनेस रिलेशनशिप

कोई भी बिजनेस हमेशा अच्छे संबंधो पर टिका रहता है इसीलिए आपको ट्रांसपोर्ट में पहले से लगे हुए लोगों से जुड़कर उनसे संपर्क बनाने होंगे. अपने कस्टमर्स को ढूंढकर उनसे बिजनेस निकालना होगा. अगर ट्रांसपोर्ट बिजनेस की बारीकियां को सीखना है तो आप अपनी गाड़ियों को किसी ट्रांसपोर्ट सर्विस में भी किराए पर चलाने के लिए लगवा सकते हैं. जब धीरे-धीरे जानकारी बढ़ने लगे तो आप खुद एक इंडिविजुअल ट्रांसपोर्ट सर्विस प्रोवाइडर बनने की और आगे बढ़ सकते हैं.

जानकारी बढाना

आपको ट्रांसपोर्ट बिजनेस पर थोड़ी रिसर्च करनी पड़ेगी यानी कि अपने नॉलेज को बढ़ाना होगा जो आपको धंधे में घाटे से बचा सकता है. ट्रांसपोर्ट बिजनेस में कदम-कदम पर आपको लीगल चैलेंज का सामना करना पड़ेगा, सड़क पर गाड़ियों के निकलते ही पुलिस, आरटीओ, ट्रैफिक पुलिस, फॉरेस्ट डिपार्टमेंट और दूसरी अथॉरिटीज अक्सर गाड़ियों को रास्ते में रोककर चेकिंग करती है. ऐसे में आपके पेपर्स सही होने चाहिए, लाइसेंस, पोल्यूशन, इंश्योरेंस होना चाहिए.

ट्रांसपोर्ट बिजनेस में किसी भी लीगल केस से बचने के लिए ड्राइवर को समझाएं की वो शराब पीकर गाड़ी ना चलाएं, गाड़ी ओवरलोडिंग ना हो, गाड़ी में लोड की गई चीजों का पेपर वर्क क्लियर हो और गाड़ी के अंदर कोई इलीगल चीज ना हो. इसके अलावा भी कई बार गलत तरीके से ट्रांसपोर्ट करने वालों से पैसे वसूल जाने के घटना आप सुनते होंगे ऐसे में अगर आप और आपके कर्मचारी को ट्रांसपोर्ट के नियम पता होंगे तो आप लीगल तरीकों से अपना बचाव कर पाएंगे.

ट्रांसपोर्ट बिजनेस शुरु करने के तरिके

ट्रांसपोर्ट बिजनेस शुरू करने के लिए उपर बताए गए सभी नियमों की पालना करनी होगी. और जरुरी काम निपटाने के बाद आप ट्रांसपोर्ट बिजनेस को निम्न तरीकों से शुरु कर सकते है…

टैक्सी सर्विस: आजकल प्राइवेट इस्तेमाल, शादी बुकिंग, ऑफिशियल टूर, सिटी राइड या टूरिस्ट प्लेस पर विजिट करने में टैक्सी की बुकिंग काफी ज्यादा बढी है. इसलिए ओला, उबर जैसी टैक्सी और कैब सर्विस का बिजनेस सफल हो गया है. इनके अलावा लोकल और स्टेट लेवल पर भी आपको कई सारी कैब सर्विस दिखाई दे जाएगी. टैक्सी सर्विस में भी Small Cab, Sedan, Luxury Cab, long Tour Cab, Group Tour Cab जैसे विकल्प डिमांड में रहते हैं. इन्हें ध्यान में रखते हुए आप रेंटल बिजनेस डेवलप करने की सोच सकते हैं. इनमें भी आप ऐप आधारित टैक्सी सर्विस रख सकते हैं, जिसके लिए आपको अलग से रजिस्ट्रेशन करवाना होगा और एप्लीकेशन भी डेवलप करनी होगी.

एंबुलेंस सर्विस: सड़कों पर दौड़ती एंबुलेंस को देखकर लोगों को लगता है कि वह हॉस्पिटल या नर्सिंग होम की अपनी प्रॉपर्टी होती है, लेकीन हमेशा ऐसा नहीं होता. कई बार एंबुलेंस सर्विस प्रोवाइडर्स अपनी सर्विस हॉस्पिटल को देते हैं. अगर कोई हॉस्पिटल या मेडिकल इंस्टिट्यूट एंबुलेंस सर्विस को मेंटेन करने का झमेला अपनी जिम्मे में नहीं लेना चाहता, तो वह कांट्रैक्ट पर एंबुलेंस सर्विस रख लेते हैं. इसके अलावा भी कई स्टेट गवर्नमेंट 108 इमरजेंसी एंबुलेंस सर्विस लोगों को देती है. इनमें भी आप अपनी एंबुलेंस को लगवा सकते हैं.

पैकर्स एंड मूवर्स: जब भी लोग एक शहर से किसी दूसरे शहर में शिफ्ट होते हैं, जॉब बदलते हैं या फिर घर का कोई सामान या फर्नीचर कहीं से मंगवाते या भिजवा हैं, तो पैकर्स एंड मूवर्स की जरूरत पड़ती है. आजकल लगभग हर छोटे-बड़े शहर में इस बिजनेस का स्कोप बढ़ने लगा है.

बस सर्विस: पब्लिक ट्रांसपोर्ट का सबसे कॉमन मीडियम है बस सर्विस जो कि एक जगह से दूसरी जगह फिक्स्ड रूट पर और साथ ही रिजर्व मोड पर प्राइवेट यूज के लिए भी अवेलेबल होती है. तो अगर आप जिस एरिया में रहते हैं वहां पर अगर किसी रूट पर बस की कमी है तो उसे पूरा करते हुए अपना बिजनेस शुरू कर सकते हैं. यह शॉर्ट रूट और लॉन्ग रूट दोनों के लिए ही हो सकती है. कई बस सर्विस एक से दूसरे स्टेट कैपिटल या बड़े शहरों के लिए भी चलती है, जैसे दिल्ली से गुड़गांव, कोलकाता से पूरी, पटना से लखनऊ आदि. इस तरह के सर्विस में जनरल और लक्जरी दोनों ही बसों की अच्छी डिमांड होती है या फिर आप अपनी गाड़ी को रेड बस जैसे ऑनलाइन एप बुकिंग सिस्टम में भी रजिस्टर करवा सकते हैं.

कोरियर सर्विस: ऑफिशियल डॉक्यूमेंट, इमरजेंसी पार्सल, मेडिसिन और ऑनलाइन डिलीवरी सर्विसेस के आने से कोरियर सर्विस की डिमांड काफी ज्यादा बढ़ गई है. ऐसे में आप अपनी खुद की कुरियर सर्विस खोल सकते हैं. या किसी सर्विस में अपने ट्रक लोडर या स्मॉल व्हीकल्स को लगा सकते हैं. बलू डार्ट एक्सप्रेस, इंडियन पोस्टल सर्विसेज, डीएचएल एक्सप्रेस, Fedex india, डीटीडीसी कोरियर एंड कार्गो लिमिटेड और फर्स्ट फ्लाइट कुरियर लिमिटेड जैसे कई स्थापित ब्रांड्स हैं. जिन्हें आप अपनी गाड़िया कांट्रैक्ट पर दे सकते हैं.

तो आज हमने जाना की ट्रांसपोर्ट बिजनेस क्या होता है? ट्रांसपोर्ट बिजनेस कैसे शुरु करें, और इसे कैसे किया जाता है? अब अगर आपने ट्रांसपोर्ट बिजनेस शुरू करने का सोचा है, तो समर्थन और सफलता की कामना करता हूँ। सफलता प्राप्त करने के लिए मेहनत, योजना और विशेषज्ञता में विश्वास रखें। आपका ट्रांसपोर्ट बिजनेस सफल होने की कामना करता हुं।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Finance3 months ago

Business Loan: इस सरकारी स्कीम में 35% सब्सिडी पर मिल रहा लोन | PMEGP Loan Process Apply Online

Trending5 months ago

PM HOME LOAN: प्रधानमंत्री आवास लिस्ट में अपना नाम कैसे चैक करें? | Bazartak PM Awas Yojana

Finance5 months ago

Aadhar Card Se Loan: ये 5 ऐप और सरकारी योजनाओं में मिल रहा आधार कार्ड पर लोन | Get Personal Loan Upto 10 Lakh

Finance4 months ago

Business Loan Apply Online | बिजनेस लोन कैसे लें? योग्यता, शर्तें, डॉक्युमेंट, बिजनेस लोन स्कीम

Finance5 months ago

PM Svanidhi Loan Apply Online : ₹10,000 से ₹50,000 तक लोन मिलेगा || Business Loan

Govt Scheme3 months ago

Top 5 Govt Scheme for girl child in india | इन 5 सरकारी योजनाओं में बेटी को मिलेंगे 5 से 10 हजार रुपये हर महीने

prime minister home loan subsidy yojana 2024
Trending3 months ago

PM Home Loan Subsidy Yojana 2024 : सरकार घर बनाने के लिए दे रही 9 लाख तक लोन, ऐसे करें अप्लाई | Bazartak Home Loan

Finance6 months ago

Govt Loan Scheme: इन 5 सरकारी स्कीम में बिजनेस के लिए मिल रहा ₹10 लाख तक लोन, ऐसे करें आवेदन

Finance4 months ago

Instant Loan: राशन कार्ड पर मिलेगा ₹10 लाख तक लोन | Apply Instant Personal Loan Online | Bazartak

Finance4 months ago

Home Loan कैसे ले, कम ब्याज दर पर होम लोन, अभी जाने होम लोन से जुड़े सभी सवालों के जवाब | Bazartak Home Loan